IAS Success Story-1 साइकिल का पंचर ठीक करते करते ये शख्स कैसे बना IAS ऑफिसर

Varun Baranwal IAS

वरुण बरनवाल (Varun Baranwal) महाराष्ट्र के बोइसार शहर के रहने वाले हैं। वरुण ने ज़िन्दगी  के कई साल गरीबी में गुजारे हैं। और उन्होंने गरीबी को बहुत करीब से देखा है  10वीं पास करने के बाद वरुण ने साइकिल की दुकान में काम करने का मन बना लिया था क्योंकि आगे पढ़ाई के लिए पैसे बिलकुल नहीं थे और वो किसी से इसके लिए ज़ोर नहीं डालना चाहते थे । वरुण ने 2006 में 10वीं की परीक्षा दी थी। परीक्षा खत्म होने के तीन दिन बाद उनके पिता का निधन हो गया उनके ऊपर तो परेशानियों का पहाड़ टूट पड़ा मगर उन्होंने हिम्मत नहीं हारी और उन्हें लगा भी  जिसके बाद पढ़ाई करना नामुमकिन लग रहा था। लेकिन किस्मत में कुछ और ही लिखा था। जब 10वीं का रिजल्ट आया तो स्कूल में वरुण ने टॉप किया था।

वरुण को घरवालों का सपोर्ट मिला। उनकी मां ने कहा 'हम सब मेहनत करेंगे, तू पढ़ाई कर'। वरुण ने आगे बताया 11वीं और 12वीं उनके जीवन के सबसे मुश्किल साल रहे। वे सुबह 6 बजे उठकर स्कूल जाते थे, स्कूल से वापस आने के बाद 2 बजे दिन से 10 बजे रात तक ट्यूशन लेते थे और उसके बाद दुकान का हिसाब करते थे।

वरुण की शुरुआती फीस तो उनके पिता का इलाज करने वाले डॉक्टर ने भर दी लेकिन उसके बाद टेंशन ये थी कि स्कूल की हर महीने की फीस कहां से आएगी। वरुण ने मेहनत करना शुरू कर दिया और सोचा स्कूल के प्रिंसिपल से रिक्वेस्ट करूंगा कि मेरी फीस माफ कर दें और यही हुआ घर की स्थिति देखकर एक टीचर ने वरुण की 11वीं और 12वीं की फीस भरी। और उनकी ये परेशानी दूर हो गई वो उन दिनों को याद करते हुए मंद मंद मुस्कराहट से हसने लगते है और याद करने लगते है !

इसके बाद इंजीनियिरिंग की पहले साल की फीस 1 लाख रुपये उनकी मां ने बड़ी कठिनाईयों से भरी। फिर बाकी सालों की फीस वहां के एक टीचर ने भी सिफारिश कर प्रोफेसर, डीन और कॉलेज के डायरेक्टर से की जिसके बाद फीस माफ हो गई। वरुण के दास्तों ने भी उस वक्त उनकी पैसों से मदद की थी।
--कॉलेज खत्म होते होते कई जगहों से प्लेसमेंट का ऑफर आ रहा था लेकिन तब तक उन्होंने सिविल सर्विसेज परीक्षा देने का सोच लिया था। इसकी तैयारी में उनके भाई ने उनकी मदद की। जब यूपीएससी प्रिलिम्स का रिजल्ट आया तो वरुण ने भाई से पूछा कि मेरी कितनी रैंक है- उन्होंने कहा 32, ये सुनकर वरुण रो पड़े। 
IAS Success Story-1 साइकिल का पंचर ठीक करते करते ये शख्स कैसे बना IAS ऑफिसर IAS Success Story-1 साइकिल का पंचर ठीक करते करते ये शख्स कैसे बना IAS ऑफिसर Reviewed by Online GK News on March 17, 2019 Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.