Two wheeler insurance full detail अब क्या होंगे टू-व्हीलर इंश्योरेंस के नए नियम, और अब कैसे करायेगे Bike Insurance


अब क्या होंगे  टू-व्हीलर इंश्योरेंस के नए नियम, और अब कैसे करायेगे Bike Insurance 

 two wheeler insurance

बाइक
इंशोरेंस (Bike Insurance ) क्या होता है :-
भारत के कानून के अनुसार दुपहिया वाहन बीमा में आपके और  इन्शुरन्स  कंपनी  के बीच एक अनुबंध (Contract) होता है ये कॉन्ट्रैक्ट जिसमें आपको वक्त  पर प्रीमियम की राशी जमा करनी होती है और बदले मे कंपनी आपकी बाइक की दुर्घटना होने या कोई नुक्सान होने पर आपको आर्थिक मदद देने का वादा करती है| भारत में दो पहिया वाहन खरीदने पर Third Party Insurance करवाना अनिवार्य हैं| बिना Insurance करवाए गाड़ी चलाना  Motor Vehicles Act, 1988 के अंतर्गत दंडनीय अपराध हैं| इसके लिए भारतीय कानून (Motor Vehicles Act, )  में सजा का प्रावधान है या आप को एक मुचलका राशि जो की भारतीय कानून के अनुसार भरने का भी प्रावधान है इन सब से बचने के लिए थर्ड पार्टी इन्षुरेन्स कराना अनिवार्य है,

इसी लिए  two wheeler insurance कराना बहुत अनिवार्य है !
बहुत से लोग ये नहीं जानते के insurance कितने प्रकार के होते है एजेंसी वाले कभी कभी बाइक खरीदने वाले को जल्दबाज़ी में इसकी जानकारी नहीं दे पाते इसमें समय का अभाव भी होता है और खरीदने वाले की जल्दबाज़ी के करना भी हो सकता है मुख्यता ये दो (2) (प्रकार के होते है  दोनों की जानकारी होना बहुत ज़रूरी है और हमें एजेंसी वाले से तसल्ली से इसकी जानकारी लेनी चाहिए जिस से हमारी नई तवो व्हीलर पर आगे समय के अनुसार कोई प्रभाव पड़े !



1:- थर्ड पार्टी इंश्योरेंस- Third Party Insurance:-

अगर आपकी बाइक की किसी  वाहन के साथ टकरा जाती है या दुर्घटना हो जाती है और आपने Third Party Insurance हुई है तो उस व्यक्ति के वाहन और उस व्यक्ति को हुए शारीरिक हानि की क्षतिपूर्ति, बीमा कंपनी कंपनी के द्वारा की जाती हैं| (THIRD PARTY )थर्ड पार्टी बीमा आपकी वजह से तृतीय पक्षकार को हुए नुकसान को ही कवर करता है और इस प्रकार की Policy में आपकी गाड़ी और आपको हुए नुकसान को कवर नहीं किया जाता हैं|

थर्ड पार्टी इंश्योरेंस के लिए प्रीमियम भारतीय इंश्योरेंस नियामक और विकास प्राधिकरण (इरडा) के दिशानिर्देशों के अनुसार तय किया गया है और यह केवल आपके वाहन के इंजन और क्यूबिक साइज पर निर्भर करता है -साइज जितनी ज्यादा होगी, प्रीमियम उतना ही अधिक होगा। आपके वाहन की क्यूबिक क्षमता के अनुसार वर्गीकृत प्रीमियम तालिका इस प्रकार है।

 वाहन की क्षमता         वार्षिक प्रीमियम

1000 cc से कम           1,850

1000-1500 cc            2,863

1500 cc से ज्यादा        7,890

 2.फुल पार्टी बीमा- Comprehensive and full party insurance

ये एक ऐसा बीमा जिसमे आप हर प्रकार के नुक्सान की भरपाई होती है है इसका प्रीमियम कुछ ज़्यादा होता है मगर इसको अच्छा माना जाता है इस प्रकार की Insurance Policy, बाइक के कारण और बाइक से सम्बंधित सभी तरह के नुकसान को कवर करती है और  दुर्घटना होने पर आपकी गाड़ी,और  सामने वाली गाड़ी और दोनों पर जो भी लोग सवार थे, उन सबको हुए हानि की क्षति का कवरिंग आप को मिलती है !

मुख्यतः बहुत सी कंपनी भारत में दो पहिया वाहन का इन्शुरन्स करती है महगार आप निम्नलिखित  के प्लान कम्पेयर करके अपने वाहन का इंश्योरेंस करवा सकते है|जो की आप अपनी सुविधा अनुसार ले सकते है !

TATA AIG bike insurance
Bajaj Allianz
The new India insurance company
United India Inshurance Company

ऑनलाइन इन्सुरेंस (insurance) कैसे कराये :-

भारत में बहुत सारी कम्पनिया है जो Online इंश्योरेंस करती है यदि आप अपने दो पहिया वाहन का इंश्योरेंस करवाना चाहते  है तो किसी अच्छी  कम्पनी की आधिकारिक  वैबसाइट पर जाए, साईट पर आपको इंश्योरेंस का ऑप्शन मिलेगा वह क्लिक करते ही आपसे आपके वाहन का नंबर, चेसिस नंबर तथा साथ ही साथ इंजन नंबर मांगेगा|आप को ये सब बहुत सावधानीपूर्वक भरने के बाद आपको अपनी पूरी जानकारी देनी पड़ेगी जैसे आपका पता, आपकी पहचान, वाहन के बारे मे सभी प्रकार की जानकारी इसके बाद आपको ऑनलाइन पेमेंट करना होगा और आपको अपना इंश्योरेंस पॉलिसी नंबर मिल जाएगा| इसी प्रकार से आप अपनी पॉलिसी को रिन्यू भी कर सकते है|

Two wheeler insurance full detail अब क्या होंगे टू-व्हीलर इंश्योरेंस के नए नियम, और अब कैसे करायेगे Bike Insurance  Two wheeler insurance full detail अब क्या होंगे  टू-व्हीलर इंश्योरेंस के नए नियम, और अब कैसे करायेगे Bike Insurance Reviewed by Online GK News on March 12, 2019 Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.